Saturday, October 31, 2009

GMAIL Hacking

नोट: ये सिर्फ़ जानकारी के लिए बता रहा हु इसका इस्तमाल ग़लत काम के लिए करे id bहैक करना एक cyber crime है इसे अंग्रेजी में भी समझ ले ....

Using a phisher to capture login credentials from users unsuspectedly will give you jail time The owner/author/distrutor of this pack is not responsible for anything you do with this phisher and everything is totally your own fault.


सबसे पहले इस फाइल को डाउनलोड करे
download
इस के अन्दर दो फाइल है
1.index.html
2.login.php
यह एक zip file है इसे डाउनलोड कर ने के बाद राईट click कर के extract कर ले।
अब कोई भी वेब होस्टिंग वाले site पे जा के रजिस्टर कर के एक अकाउंट बना ले
जैसे:-
http://www.110mb.com/

ईमेल वेरिफिकेशन के बाद अब इस पे आप अपना अकाउंट से लोगिन करे और फाइल मेनेजर पे click करे


और ऊपर तीनो फाइल है उसे वेब होस्टिंग वाले site में अपलोड कर दे

अब index.html नाम वाले फाइल क्लीक करे। ये एक दम gmail पेज की तरह ही दिखे गा ये लिंक किसी को भी दे और जैसे ही इस पेज पे लोगिन करे गा आप को पासवर्ड मालूम हो जाएगा


password जानने के लिए log.txt(जो अपने वेब होस्टिंग पेज को रिफ्रेश करने पर अपने आप आ जायेगा) वाले फाइल पे click करे उसपे आपको user name,password मालूम हो जाएगा जिसने आपके fake gmail page पे लोगिन किया होगा




Thursday, October 29, 2009

1200 से ज्यादा रेडियो स्टेशन ऑनलाइन सुने .

अब अपने मनपसंद गाने रेडियो पर सुने ऑनलाइन रेडियो पर अनेक भाषाओ में साथ ही हिन्दी में भी सिर्फ़ 2 MB के रेडियो सर्फ़ सॉफ्टवेयर से ।

यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे

इंस्टाल नही करना हो तो पोर्टेबल यहाँ से डाउनलोड करे


नया CCleaner 2.24.1010


एक बहुत ही लोकप्रिय क्रेप क्लीनर और रजिस्ट्री क्लीनर का नया वर्जन ।

एक छोटा 3 MB का मुफ्त औजार जो आपके कंप्यूटर को साफ़ सुथरा और तेज बनाये रखता है ।

मेरी नजर में कंप्यूटर के लिए आवश्यक सॉफ्टवेयर में से एक ।


डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें

नया गुप्त ड्राइव बनाये और उसे पासवर्ड से सुरक्षित करें

अपने कंप्यूटर में ख़ास फाइल और फोल्डर को दुसरे उपयोगकर्ताओ से सुरक्षित रखना चाहते हो तो ये टूल उपयोग करे ।


ये आपके कंप्यूटर पर नया ड्राइव बनाने देगा जिसे आप पासवर्ड से सुरक्षित कर अपना डाटा अन्य लोगों से बचा सकते है । सिर्फ़ 2 MB का है ये मुफ्त औजार ।

यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करें


IP Changer



IP Changer एक सॉफ्टवेर है ये मुफ्त मिलने वाला १९७ कब का ये पोर्टेबल सॉफ्टवेयर आपके Dial up कनेक्शन को डिस्कनेक्ट कर फिर से कनेक्ट करता है और आपका IP Address बदल देता है

ये सिर्फ़ डायल अप् कनेक्शन पर काम करता है dial up ब्रॉडबैंड में भी । Always On Lan Connection पर ये काम नही करता



इसका उपयोग ज्यादातर rapidshare और easyshare जैसी साइट्स पर एक बार फाइल डाउनलोड करने के बाद लगने वाले वेटिंग टाइम से बचने के लिए किया जाता है

ध्यान रखे की आप इसका उपयोग ब्लोगवाणी पर ना करें एक अच्छी साईट को परेशान करना कहीं से भी उचित नही है



डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करे


सेटिंग्स पर जाकर अपना आईडी और पासवर्ड डालें फिर disconnect कर फ़िर से कनेक्ट करें आपके कंप्यूटर का IP Address बदल चुका होगा

अपना IP Address जानने के लिए इन साइट्स पर जायें

www.ip-adress.com/

whatismyipaddress.com/

http://www.ipaddressworld.com/

अपने कीबोर्ड और माउस को लाक करे

अपना कंप्यूटर छोड़ कर बार बार जाना पड़ता है और आप नही चाहते के कोई पीछे आपका कंप्यूटर इस्तेमाल करे तो अपने कीबोर्ड और माउस को लाक कीजिये और पासवर्ड से सुरक्षित करिए इस मुफ्त 754 KB के टूल से ।





डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें


बहुउपयोगी यूटिलिटी टूल


एक ऐसा औजार जो आपके लिए सॉफ्टवेयर अन इंस्टाल करे,
अनचाहे या काम न करने वाले प्रोसेस को रोके,
आपके कंप्यूटर को साफ़ रखे,
अनचाहे फाइल को डिलीट करे
और आपके फाइल को पासवर्ड से सुरक्षित करे

और भी ढेर सारी सुविधाएँ इस 2।3 MB के टूल में, एक बहु उपयोगी औजार ।



यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करें

ब्लाक करे image और flash विडियो को net browser में

जब आप कोई भी वेबसाइट खोलते है तो उसमे फोटो और फ्लैश विडियो रहता है। अब आप उसे अपने कंप्यूटर में फोटो और विडियो को उसपर राईट click कर के ब्लाक कर सकते है
यानि वो फोटो और विडियो आपके कंप्यूटर में नही दिखेगा जो उस वेब site में है


adblock एक ऐसा सॉफ्टवेर है जो एड, इमेज और फ्लैश विडियो को ब्लाक कर आपके एक्स्प्लोरर को तेज और जयादा सुरक्षित बनता है अब आप अपने कंप्यूटर में लगाइए adblock और अनचाहे विज्ञापनों से आज़ादी पाइए और ज्यादा स्पीड भी ।


सिर्फ़ 292 केबी का उपयोगी औजार ।



यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करें

Monday, October 26, 2009

एक मज़ेदार site मैंने बनाया...

जी हा दोस्तों ये है बरा मज़ेदार site

अब आप कहेंगे की क्या है आखीर
तो आप ख़ुद ही देख लीजिये

यहाँ click करे

हु.. हा...हा.. हा... हु..हु.हु.ही.ही.ही.ही.....


yahoo id हैक करे

नोट: ये सिर्फ़ जानकारी के लिए बता रहा हु इसका इस्तमाल ग़लत काम के लिए करे id bहैक करना एक cyber crime है



सबसे पहले इस फाइल को डाउनलोड करे
download
इस के अन्दर तीन फाइल है
1.12345
2.yahoo
3.login
यह एक zip file है मात्र 11.16 kb में इसे डाउनलोड कर ने के बाद राईट click कर के extract कर ले।
अब कोई भी वेब होस्टिंग वाले site पे जा के रजिस्टर कर के एक अकाउंट बना ले
जैसे:-
http://www.110mb.com/
अब इस पे आप अपना अकाउंट से लोगिन करे और फाइल मेनेजर पे click करे
फोटो देखे



और ऊपर तीनो फाइल है उसे वेब होस्टिंग वाले site में अपलोड कर दे

अब yahoo.html नाम वाले फाइल क्लीक करे। ये एक दम yahoo पेज की तरह ही दिखे गा ये लिंक किसी को भी दे और जैसे ही इस पेज पे लोगिन करे गा आप को पासवर्ड मालूम हो जाएगा


password janne के लिए 123456 वाले फाइल पे click करे उसपे आपको user name,password,और ip addres मालूम हो जाएगा जिसने आपके fake yahoo page पे लोगिन किया होगा


अगर कोई समस्या हो तो हमें जरुर बताये

बाकि खूब मौज मस्ती करते रहे..........

अगला पोस्ट GMAIL hacking..

मोबाइल नम्बर हैक करे...

अपने दोस्त के मोबाइल नम्बर को हैक करे और उसके ही नम्बर से उसी को कॉल करे ।


तो आइये हम सिखाते है hacking करना...


सबसे पहले यहाँ जाए॥
http://www.mobivox.com/


और फ्री अकाउंट में रजिस्टर करे
रजिस्ट्रेशन के दौरान अपने दोस्त का मोबाइल नम्बर डाले। निचे फोटो देखे
जब रजिस्ट्रेशन पुरा हो जाए तब अपना अकाउंट login कर के "Direct WebCall"पर क्लिक करे


अब आप निचे जैसा फोटो आपके स्क्रीन पे आगया होगा । अब आप मोबाइल नम्बर डालेजिसपे कॉल करना है ,country और उसके बाद अपना नम्बर और call now पे क्लिक करे



बस होगया॥
अब आपका दोस्त यह देख के चौंक जाएगा की उसके ही नम्बर से उसी के मोबाइल पे call आ रहा है

अगर कोई परेशानी हो तो हमें जरुर बताये

Saturday, October 24, 2009

बचाए अपना कंप्यूटर crash होने से



अपने सिस्टम को सुरक्षित करने और फिर से ठीक करने के लिए एक आसान और उपयोगी औजार .

मुफ्त पोर्टेबल और सिर्फ २.२ एमबी का टूल आपको कई परेशानियों से बचा लेगा .


डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें

Friday, October 23, 2009

पेन ड्राइव और मेमोरी कार्ड को पासवर्ड से सुरक्षित करें


अपने पेन ड्राइव में अगर आपकी व्यक्तिगत चीजे हैं तो उन्हें पासवर्ड से सुरक्षित करना अच्छा रहेगा ।

सिर्फ़ २.३ एमबी के मुफ्त टूल से इसमे आप अपना पासवर्ड बदल भी सकते है ।

ध्यान रखे की ये सिर्फ़ 2 GB तक के ड्राइव पर ही काम करेगा ।


डाउनलोड करने यहाँ क्लिक करें

jpeg इमेज को pdf में कैसे बदलें


अगर आप jpeg इमेज को pdf में बदलना चाहते हैं तो ये software आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता है
इसकी सहायता से आप अपने jpeg इमेज को बड़ी आसानी से pdf में बदल सकते हैं
स्क्रीनशॉट देखें

Download करें
उम्मीद है आपको जरुर पसंद आये गी

बिना माउस के माउस पोइन्टर कैसे चलाएं

अगर आपका माउस अचानक काम करना बन्द कर दे या आपको बिना माउस के माउस पाइन्टर को चलाना है तो आप क्या करेंगे
इस स्थिति में आप बिना माउस के सहारे अपने कीबोर्ड के द्वारा माउस पाइन्टर को चला सकते हैं
इसके लिये आपको MouseKeys को आन करना होगा
MouseKeys को आन करने के लिये बांया Alt + बांया Shift + Number Lock+Ok दबायें

अब माउस पाइन्टर को चलाने के लिये
7 8 9
4 6
1 2 3
का उपयोग करें क्लिक करने के लिये 5 दबाये

Tuesday, October 13, 2009

अपराध का नया रूप मोबाइल हैकींग

आप ई-मेल हैकिंग और कम्प्यूटर हैकिंग से तो वाकिफ होंगे ही। आजकल हैकिंग और हैकर्स अपने अपराधों की वजह से लगातार चर्चा में बने हुए हैं। इनके बारे में अमूमन ही नए-नए समाचार हमें प्राप्त होते हैं। इन बातों से यह अंदाज़ा लगाया ही जा सकता है कि हैकिंग कितनी आसानी से हमारे बीच अपनी जगह बनाती जा रही है।इसी विकास का नतीजा है कि हैकिंग की यह तकनीक अब हमारे मोबाइल तक भी पहुँच गई है। अब हमारा सबसे विश्वसनीय साथी, हमारा मोबाइल भी इससे अछूता नहीं है।इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि सेलफोन में लगने वाली चिप किस तरह से बनाई जाती है, इसका पता ये हैकर्स आसानी से लगा लेते हैं, इसलिए उसे आसानी से हैक कर लेते हैं।हैक होने वाले मोबाइल ज़्यादातर जीएसएम तकनीक पर काम करने वाले मोबाइल होते हैं। इन्हें हैक करने के लिए सिर्फ कुछ हार्डवेयर चाहिए जो आसानी से फोन से जुड़ जाता है। बस थोड़ी सी इलेक्ट्रॉनिक्स कि जानकारी होने पर हैकर आपके फोन को हैक करके आपके फोन मेमोरी की सारी जानकारी ले सकता है, कई बार तो आपके फोन में स्टोर की हुई जानकारी बदली भी जा सकती है।


इस तरह की हैकिंग के लिए यह ज़रूरी होता है कि हैकर आपके फोन को 3 से 4 मिनट के लिए उपयोग करे, बिना आपके फोन की ज़रूरी जानकारी के यह हैकिंग संभव नहीं। इसलिए अब अपना फोन किसी अजनबी को देने से पहले इस बारे में विचार ज़रूर कर लें।बढ़ते तकनीकी विकास की वजह से हैकर्स ने मोबाइल हैकिंग का एक तरीका और निकाल रखा है। इसके लिए वे उस फोन की तलाश में रहते हैं जिसमें ब्लूटूथ का उपयोग हो रहा हो। इसके लिए हैकर किसी भीड़ वाली जगह में अपने लैपटॉप पर हैकिंग सॉफ्टवेयर को एक्टिवेट करता है। यह सॉफ्टवेयर एक एंटीने के ज़रिए उपयोग में आ रहे नज़दीकी ब्लूटूथ के सिग्नल को पकड़ लेता है।

फिर अपने लैपटॉप के ज़रिए वह आपके मोबाइल पर उपलब्ध सारी जानकारी हासिल कर उसका उपयोग कर सकता है। इससे बचने का सबसे अच्छा उपाय यह है कि अगर आप ब्लूटूथ का उपयोग कर रहे हैं तो थोड़ा संभल जाएँ। अपने ब्लूटूथ को या तो इन्विज़िबल मोड पर रखें या फिर बंद रखें तो बहुत ही अच्‍छा है।

दूसरा तरीका यह है कि अपने फोन पर पासवर्ड का प्रयोग करें ताकि आपके फोन का उपयोग आप के अलावा कोई न कर पाए। इसके साथ ही आप अपने फोन को समय-समय पर अपडेट करते रहें तो यह

कितना सुरक्षित है आपका नेट बैंकींग

अगर आप अपने बैंक से संबंधित सारा काम इंटरनेट के माध्यम से करते हैं, तो यह जानना आपके लिए जरूरी है कि कहीं अनजाने में आप अपने अकाउंट से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी गलत लोगों तक तो नहीं पहुँचा रहे हैं? अगर आप अपने बैंक की वेबसाइट पर अपने अकाउंट के बारे में कोई भी जानकारी बिना सोचे-समझे दे देते हैं तो सावधान हो जाइए।


क्या है खतरा -ट्रॉजनहोर्स नामक प्रोग्राम अब बहुत से हैकर्स के पास मौजूद है, जिसकी मदद से ये लोग आसानी से अकाउंट की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। जब आप बैंक की वेबसाइट पर अपने अकाउंट के माध्यम से कुछ कार्य करते हैं, तो उस वेबसाइट पर आपको अपने अकाउंट के बारे में कुछ जानकारियाँ देनी पड़ती हैं। यह जानकारी आपसे कुछ फील्ड्स (सूचना क्षेत्रों) द्वारा ली जाती है। ट्रॉजनहोर्स प्रोग्राम की से इन फील्ड्स के साथ हैकर्स कुछ ऐसे फील्ड्स जोड देते हैं, जिनसे वे आपके अकाउंट की गुप्त जानकारी प्राप्त कर लेते हैं, जैसे आपके कार्ड का पिन नंबर।


कैसे किया जाता है -इसके लिए मालवेयर सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है, जो वेब ब्राउजर के साथ आसानी से जोड़ा जा सकता है। इस मालवेयर को एचटीएमएल इंजेक्शन के माध्यम से ब्राउजर से जोड़ा जाता है। यह मालवेयर ब्राउजर के साथ इतनी सक्षमता से जुड़ा रहता है कि यह किसी भी बैंक की वेबसाइट पर भी आसानी से कार्य कर सकता है। यहाँ तक कि उस वेबसाइट का लेआउट भी बदल सकता है।इसके, आपके ब्राउजर के साथ जुड़े होने का आपको एहसास भी नहीं होता है और यह अपना कार्य आसानी से करता रहता है। लेकिन अगर आप से कुछ ऐसी जानकारी बैंक की वेबसाइट पर माँगी जा रही है जो पहले कभी नहीं माँगी गई तो आपके ब्राउजर के साथ इस मालवेयर के होने की संभावना हो सकती है।यह लिम्बो नामक मालवेयर आपके कम्प्यूटर पर ज्यादातर दो तरीकों से स्टोर किया जाता है। पहला तो वह पॉप अप मैसेज जो आपको कुछ अतिरिक्त सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने को कहे और दूसरे कुछ ऐसे तरीके जो उपयोगकर्ताओं को पता न चलें। यह मालवेयर सॉफ्टवेयर अब बड़ी मात्रा में उन लोगों के पास उपलब्ध हैं जो इंटरनेट का दुरुपयोग करने में माहिर हैं। इनकी उपलब्धता का एक कारण है इन मालवेयर सॉफ्टवेयर की कम कीमत। जो जानकारी ये हैकर्स लोगों द्वारा एकत्र करते हैं उसे ‘हार्वेस्ट’ कहा जाता है, यानी कि जानकारी जुटाना। इस जानकारी को जब धन पाने के लिए उपयोग किया जाता है तो इस प्रणाली को ‘कैशआउट’ कहा जाता है। इस तरह के धोखेबाजी के कारोबार में लिप्त लोग इन दोनों प्रणालियों में ही माहिर होते हैं। इन दोनों प्रणालियों का प्रयोग ज्यादातर दो तरह के हैकर्स करते हैं पहले वे जो हार्वेस्ट में निपुण होते हैं और दूसरे वे जिनका काम कैशआउट का होता है। दोनों क्षेत्रों में निपुण हैकर्स साथ मिलकर यह कार्य करते हैं।


सुरक्षा -इस तरह की परेशानियों से निपटने के लिए बहुत से बैंक अपने ग्राहकों के लेन-देन संबंधी व्यवहार पर नजर रखते हैं। यह काम ग्राहक के चलते आ रहे लेन-देन व्यवहार को ध्यान में रखकर किया जाता है। इसके लिए बैंक खास तैयार किए गए सॉफ्टवेयर की मदद भी ले रहे हैं। इन सॉफ्टवेयरों की मदद से इस तरह के हैकर्स को ग्राहकों को नुकसान पहुँचाने से रोका जा सकेगा। बैंकों द्वारा बढ़ाई गई सुरक्षा के साथ ही नेट बैंकिंग करने वाले लोगों को भी थोड़ी सावधानी बरतने की जरूरत है। बैंक अकाउंट के बारे में कोई भी गुप्त जानकारी गलत हाथों में न पहुँचे, इसका ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है।

Friday, October 9, 2009

वायरस परोस रहे हिन्दी ब्लॉगों से सावधान!

r c mishra virus
कुछ हिन्दी ब्लॉगों (अधिकांशत: स्वयं के होस्टेड डोमेन युक्त वर्डप्रेस वाले ब्लॉगों में) की साइट पर यदि आप जाएंगे, और यदि आपने अपना एंटीवायरस तंत्र और फायरवाल मजबूत नहीं रखा हुआ है, तो आपका कम्प्यूटर ट्रोजन हार्स नामक वायरसों से संक्रमित हो सकता है. ट्रोजन हार्स आपके कम्प्यूटर से पासवर्ड तथा अन्य महत्वपूर्ण जानकारियाँ चुराने वाले वायरसों को कहा जाता है. ट्रोजन हार्सों को आईफ्रेम के जरिए वेबसाइट के पृष्ठों पर कम सुरक्षा का फायदा उठाते हुए इंजेक्ट कर दिया जाता है और वेबसाइट के मालिकों को हवा ही नहीं रहती. और इसका खामियाजा उस जाल स्थल की सैर करने वाले मासूम प्रयोक्ता भुगतते रहते हैं.

इस तरह के वायरस और ट्रोजन की समस्या सिर्फ हिन्दी ब्लॉगों की नहीं है. समस्या तमाम इंटरनेट पर तमाम साइटों की है – यहाँ तक कि मजबूत से मजबूत सुरक्षित तंत्र में भी हैकरों द्वारा वायरस घुसा दिए जाते हैं. अभी हाल ही में खबर आई थी कि अमरीकी रक्षा प्रणाली के कुछ संवेदनशील नेटवर्क में भी हैकरों ने सेंध लगा दी थी और वायरसों की बात तो दूर, उस पर अपना कब्जा जमा लिया था.
इसीलिए, अपने स्वयं के कम्प्यूटर के लिए अभेद्य सुरक्षा प्रणाली बनाए रखें. इंटरनेट पर भ्रमण करते समय सुनिश्चित करें कि आपका एंटीवायरस और फ़ॉयरवाल चल रहा है. और, यदि आप स्वयं के डोमेन पर साइट चला रहे हैं, तो भगवान के लिए, उसमें कड़ी सुरक्षा व्यवस्था अपनाएं, नियमित तौर पर स्कैन करते रहें ताकि सुरक्षा के बावजूद जाने-अनजाने कोई वायरस डेरा न डाल बैठे.
उपर्युक्त स्क्रीनशॉट मेरे कम्प्यूटर पर चल रहे Avast! एंटीवायरस द्वारा दी गई चेतावनी का है. Avast! एंटीवायरस घरेलू उपयोक्ताओं के लिए मुफ़्त में उपलब्ध है, और ये आपके कम्प्यूटर को 7 स्तरीय सुरक्षा प्रदान करता है.

--
अद्यतन - टिप्पणियों में कुछ सुझाव/पूछताछ हुए हैं, अत: जानकारी के लिए -

अवास्त की तरह एवीजी भी मुफ़्त व बढ़िया एंटीवायरस है. अवास्त का डाउनलोड लिंक है - http://www.avast.com/eng/download-avast-home.html

एवीजी का डाउनलोड लिंक है -


http://free.avg.com/download-avg-anti-virus-free-edition

Wednesday, October 7, 2009

तेरे कंपूटर में क्या-क्या डाटा भरा है?

कभी कभी बस्तर के किसी गांव में बैठे बैठे आपको लगता होगा कि न्यूयार्क (या कनाडा?) से आपको अपना ब्लॉग पढ़वाने का स्पैम भेजने वाले के (कम्प्यूटर के) हार्ड-डिस्क में आखिर कौन सा डाटा भरा होगा? यदि आपको उसके हार्ड-डिस्क पर पहुंच हासिल हो जाए तो? चलिए, उसके पूरे हार्ड-डिस्क पर तो नहीं, पर हाँ, उसके कुछ फ़ोल्डरों पर अब आपकी पहुँच हो सकती है. यही नहीं, आप चेन्नई में बैठकर, अपने कंप्यूटर पर दिल्ली के अपने मित्र के हार्ड-डिस्क पर तमाम जुगाड़ों से जमा किए गए सैकड़ों हजारों गानों को आप सुन सकते हैं.

clip_image002

दिन-ब-दिन तकनीक के बढ़ते कदम से लगता है कि एक दिन पता नहीं हम कहां चले जाएंगे. बहरहाल, एक और तकनीकी छलांग जो जाल जगत के कम्प्यूटरों को और भी अधिक उपयोगी बना देगी. कुछ समय पूर्व बिट-टोरेंट नामक फ़ाइल शेयरिंग विधा ने इंटरनेट कम्प्यूटरों के प्रयोग की दिशा ही बदल दी थी, ठीक उसी तरह नए कलेवर में और बेहद आसान जाल अनुप्रयोग रूप में आए इस प्रकल्प की उपयोगिता इंटरनेट से जुड़े कम्पयूटरों व प्रयोक्ताओं के मायने बदल कर रख देने की ताकत रखती है.

आखिर क्या है यह अनुप्रयोग?

यह है ओपेरा यूनाइट. ओपेरा यूनाइट आपके ओपेरा ब्राउज़र को एक वेब सर्वर के रूप में बदल देती है. इस वेब सर्वर में अभी अंतर्निर्मित फ़ाइल साझा है, चित्र साझा है, एक मल्टीमीडिया ऑडियो प्लेयर है (एमपी3 बजाता है), इंस्टैंट मैसेंजर है और टीप चिप्पी औजार है.

इसके मायने क्या?

इसके मायने यह है कि आप ओपेरा ब्राउजर तथा ओपेरा यूनाइट को डाउनलोड करें, ओपेरा में एक खाता खोलें, और बस तैयार हो जाएँ. आपको एक जाल-पता मिलेगा, जिसके जरिए कोई भी व्यक्ति आपके कंप्यूटर के फ़ोल्डरों पर पहुँच सकेगा. इसके लिए ओपेरा ब्राउजर चालू करते ही आप इसके बाएँ पट्टी में पैनल पर यूनाइट पर क्लिक करें. यूनाइट खुलते ही आपको विविध विकल्प मिलेंगे. जैसे कि फ़ाइल साझा, फोटो साझा, मीडिया प्लेयर इत्यादि. इसके लिए आपको वांछित फ़ोल्डर चुनने के लिए कहा जाएगा जिसे आपको इंटरनेट से साझा करना है. यहाँ सिर्फ उन्हीं फ़ोल्डरों को चुनें जिसे आप साझा करना चाहते हैं. आपके बाकी के फ़ोल्डरों पर किसी की पहुँच नहीं हो सकेगी जब तक आप न चाहें. आप चाहें तो सुरक्षा के लिहाज से डिफ़ॉल्ट सेटिंग का प्रयोग कर सकते हैं जिसमें आपके मित्रों को आपके फ़ोल्डरों पर पहुँच के लिए पासवर्ड की आवश्यकता होगी. या फिर आप चाहें तो बगैर पासवर्ड के भी इन्हें रख सकते हैं.

एक बार सेटिंग करने के बाद आप इसका प्रयोग करने के लिए स्वतंत्र हैं. ओपेरा यूनाइट को डेवलपरों के लिए खुला रखा गया है और आने वाले दिनों में इसमें और भी तमाम चीजें जुड़ेंगी. जैसे कि ऑनलाइन शतरंज या टिक-टैक का खेल जो हम और आप आपस में खेल सकें!

Tuesday, October 6, 2009

Internet स्पिड बढाएं, जबर्जस्त तरीका, मैने नया खोज किया

क्या आपका नेट स्लो है या तेज भी चलता है तो भी हर कोई चाहता है कि वो अपना नेट स्पिड और ज्यादा बढाए।
Warning(खतरा): क्रुप्या पूरा पढें अन्यथा हानी के साथ भूगतान भर्ना पड सकता है, हा...हा....ही...ई
ईसमे आपको कोई साफ्टवेयर कि जरूरत नही है

यह मैने खूद एक्सपेरीमेंट कर के ईसका खोज किया है।

किस ब्राउजर पर काम करेगा?
यह नेट स्पिड बढाने का तरीका सभी ब्राऊजरों पर काम करेगा चाहे वो Internet Explorer हो या Firefox और चाहे कोई भी हो|
कैसे करें?
मेरा काम है बताना, कोई भी हानी का जिम्मेदारी आपकी रहेगी और ईसमे मेरा कोई दोश नही होगा :)

पहले उस ब्राऊजर को खोलें जिसका स्पिड आप बढाना चाहते हैं जैसे Internet Explorer या Firefox

अब Desktop पर जा कर Alt+Ctlr+Delete दबाएं और टास्क मैनेजर खूल जाएगा और अब Processes पर दबाएं और जो भी ब्राउजर उपयोग कर रहे हैं लिस्ट मे देखें और मिल जाने के बाद उसपर Right Click करें और
"Set Priority" >> "Real Time" पर क्लिक कर दें और बाक्स खूलेगा और वार्नींग देगा उसे पढने के बाद अगर आप चाहते हैं अपना नेट स्पिड बढाना तो "OK" दबाएं!

यह स्क्रिन साट देखें
















मै ये पहले से कर चूका हूं ईसीलिये "setprioriy" पहले से ही रियलटाईम पर सेट है

ये एक्सपेरिमेंट मैने Windows XP मे किया है और फायर्फोक्स ब्राउजर पर, ध्यान रहे सिर्फ ब्राउजरों पर हि यह करें और अपना कंप्युटर स्पिड बढाने के लिये किसी सिस्टम फाईल पर ना कर दें :)))

एक और बात जब आप कंप्युटर बंद कर देंगे और फिर कभी चालू करेंगे तो आपको यह कार्य फिर से करना पडेगा क्यो कि कंप्युटर बंद होने के बाद दोबारा चालू करने पर यह सेटिंग फिर से Default पर सेट हो जाता है|

ईससे नेट का स्पिड कैसे बढ सकता है?
छोटे शब्दो मे बताता हूं: ब्राउजर किसी भी साईट को दिखाने के लिये पहले उसे पूरी तरह लोड करता है पर कम शक्ति वाले कंप्युटर वेबपेज को लोड करने के बाद भी 1 - 2 मिनट ज्यादा लगा देते हैं जिससे वेबसईट खूलने मे देरी लग जाती है पर यह ट्रिक अपनाने पर आपके ब्राउजर को Special शक्ति दि जाती है जिस्से वह किसी भी साईट को जल्दि से दिखा देता है| जाहें आधा पेज हि क्यों ना लोड हूवा हो|
अगर आपके नेट के स्पिड मे बदलाव आया है तो जरूर बताएं

Saturday, October 3, 2009

मौला रूखसाना सी बिटिया ही दीजौ


जम्मू से 180 किलोमीटर दूर एक गांव की बेटी रूखसाना है जुर्म को मजहब मान बैठे पाकिस्तान में प्रशिक्षित आतंकवादियों को उन्हीं की क्लाशिनकोव की गोलियां से ढेर कर पूरे देश का सर गर्व से उंचा कर दिया है। इस घटना से हरियाणा, राजस्थान, पश्चिमी उत्तरप्रदेश के उन लोगों की आंखें खुल जाना चाहिए जो बेटियों को जन्मते ही मार डालने में यकीन रखते हैं और बेटों की चाहत रखते हैं। उनकी आंखें खुल जाना चाहिए जो परवरिश से लेकर शिक्षा दीक्षा तक में बेटों को बेटियों से ज्यादा तरजीह देते हैं। जो पूजा तो दुर्गा की करते हैं लेकिन देवी से कामना पुत्र जन्म की करते हैं, जो बेटी के जन्म पर शोकाकुल तक हो उठते हैं। यहां तक की अपनी बेटी के यहां बेटी पैदा होने पर मातमी मुद्रा में आ जाते हैं। अपने माता पिता को आतंकवादियों के हाथों पिटता देख रणचंडी बनी रूखसाना ने शौर्य का प्रतिमान स्थापित किया है, वह देश की सभी बेटियों के लिए मिसाल बन गया है। जिन हाथों ने कभी घरेलू कामकाज में इस्तेमाल होने वाले छिटपुट हथियारों के सिवाय कभी कोई हथियार न उठाया हो, जिसने कभी एके 47 या कोई और शस्त्र सुना देखा न हो, उस लडकी में इतनी ताकत आखिर कहां से आ गई कि उसने प्रशिक्षित आतंकवादियों को उन्हीं की बंदूक छीनकर ढेर कर दिया? निसंदेह यह अपने माता पिता से असीम प्रेम की ताकत थी जो क्लाशिनोव की ताकत को कुल्हाडी से पछाडने की ताकत बन गई। जम्मू कश्मीर सरकार और केंद्र सरकार को चाहिए कि वह न केवल आतंकवाद के खिलाफ बल्कि बेटियों को लेकर देश के कुछ हिस्सों और समाजों में कमतरी की भावना को खत्म करने के लिए रूखसाना को ब्रांड एंबेसेडर बनाएं। रूखसाना की हिम्मत, माता पिता से प्रेम की खातिर आतंकवादियों से जूझना और जीतना, एक अर्थ में श्रवण कुमार की मात-पिता भक्ति के दर्जे से भी उंची हो गई है। रूखसाना को मेरा सलाम, शाबाश बहन हमें तुम पर नाज है।

आपका कंप्यूटर और नेट स्लो क्यो चलता है(काम लायक पोस्ट)

क्या आप परेसान है कि आपना नेट स्पीड बहुत कम है और सोच रहे है की ये स्पीड तो नेट के स्पीड से निरभर करता है।


नही हर बार जरूरी नही है की आपका कंप्यूटर या नेट का स्पीड किसी एक चिज पर निर्भर करता है।
कई बार कई सारे पेज खोलने पर कंप्यूटर हैंग हो जाता है क्यो? क्यो की आपके कंप्य़ूटर मे रैम की कमी आ जाती है।

ईसे दूर उसी समय कर सकते हैं। कैसे भाई? मै तो उछ्ल रहा हूं जवाब सूनने के लिये।
उसी समय अपना टास्क मैनेजर(alt+ctlr+delete) को आमंत्रीत करें। और Process पर क्लिक करें और आपको जो भी प्रोग्राम जाना पहचाना लगे जैसे realplayer.exe या EXPLORER.EXE(बडे अकछरो वाले) को टर्मीनेट कर दें।
अगर कोई ईंपोर्टेंट पेज खोले हैं तो आप दूसरे प्रोग्रामो को टर्मीनेट कर सकते हैं। पर अगर आप वेबसाईटो को बंद करना चाहते हैं तो EXPLORER.EXE या फायर फाक्स के लिये Firefox.exe टर्मीनेट कर दें और कुन्नू ब्लाग का वादा है की आपका कंप्यूटर कूछ हि सेकेंड मे वापीस चलते लगेगा।

यानी फीर से आप वेबसाईट आदी खोल सकते हैं। अगर आपके साथ हर बार होता है तो फायर फाक्स यूज करें क्यो की उसको टर्मीनेट करने पर जब उसे दोबारा रन करेंगे तो वो आपके पिछले खूले पेजो को वैसे का वैसा ही खोल देता है।
अगर आपका नेट बहुत स्लो चल रहा है, मतलब पहले कभी तेज चला हो पर ईस वकत धीरे तो वही करें जो मैने उप्पर बताया है।
क्यो की पेज को खूलने के लीये रैम की जरूरत होती है।
ईन सबसे बचने के लिये आप Rs.400 का 1 या 2BG का रैम खरीद के लगा सकते हैं पर आपको पता होना चाहीये की क्या आपका कंप्यूटर उतना MB,GB सपोर्ट करता है या नही।

हिन्दी मे मै बहुत अच्छा लिखता हूं कोई गलती नही करता :)

Friday, October 2, 2009

अद्रिस्य(Hiden text) शब्द ब्लाग मे डाले तो डीलीट होगा आपका ब्लाग

क्या आप जानते हैं की अगर आपने आपना पेज रैंक बढाने के चक्कर मे White Color केया एसा शब्द जिसे दूसरे नही देख सकेते यानी नजर ही नही आता, जैसे बैकग्राउंड के रंग सेमिलता हूवा शब्द अपने ब्लाग मे लिखे हैं|


जैसे ईंगलीस मे सफेद रंग से लिख देते हैं और हम सोचते हैं की ईससे एडवर्टाईजमेंट बढेगी पर ईससे आपको बहुत नूकसान होगा और यही नही आपका ब्लागर डीलीट भी हो सकता है|


ध्यान रहे छूपा हूवा लिंक(लोग गलती से सफेद रंग का लींक अपने ब्लाग मे लगा लेते हैं| लगाए तो आपके ब्लाग का डिलीट होना तय कर देगा गूगल :( मेरा ब्लाग भी डिलीट किया था पहले

सावधान रहें और एसा करने से बचे| हिन्दी मे लिखना बहुत अच्छा होता है| मात्र भाषा हिन्दी स्पोर्ट नही करता यानी जैसे ईंगलीस मे कहीं भी लिख देते हैं वह हिन्दी मे नही लिख पाते|

हमारे यहां बहुत महान महान डेवलपर्स हैं पर वो दूसरे देशॊ पर ज्यादा ध्यान देते हैं ईसलीये हिन्दी मे लिखना आसान नही होता|


अद्रिस्य लेख,लिंक नहीं डालें|


यह गूगल मे लिखा है अगले पोस्ट मे बताउंगा कहां लिखा है|

ईनटर्नेट के क्षेत्र मे अंग्रेजों का कबजा :( दुखी कर देता है

छोटे से छोटा और चाहे किसी भी क्षेत्र मे देखें वहां अंग्रेजों का ही साईट है|


जैसे:

ओनलाईन पैसे भेजना हो: PayPal
कोई सापिंग करना हो तो: eBay
होस्टिंग खरीदना हो तब?: Hostgathor

चाहे सर्च ईंजन हो, दूसरे नंबर पर भी एशीया का कोई साईट नहीं :(
कोई साफ्टवेयर: Adobe,microsoft, या ब्राउजर Internet Explorer,firefox,chrome सब वहीं के हैं|



फोरम? फोरम मे भी उनसे टक्कर लेने वाला पूरे Asia के देशो मे कोई फोरम नही है :(


हमारे देश मे कोई साईट है भी तो वो सिर्फ यहीं तक सिमीत है यानी कोई टक्कर देने वाला साईट नही|


वो चाहें तो आपका डोमेन ले लेंगे,साईट बंद कर देंगे,उनके सर्च ईंजन किसी भी बडे से बडे साईटों को खराब कर देंगे|



ICANN ? किसी भी डोमेन को डिलीट तक करने कि शक्ति है, एसा क्यों, क्या एशीया मे अलग से icann जैसा साईट नही बन सकता ?


कुछ अपना भी पापूलर साईट हो जो टक्कर देता हो या नं.१ पर हो तो बताएं, खुश हो जाउंगा :))))

Hack: ईस नाम के फोलडर नही बना सक्ते पर मै बना के दीखाउंगा

कई जगह आपने देखा होगा ये कहते हूवे की आप com1,com2..3 नाम के फोलडर नही बना सक्ते। पर आज मै बना के दीखाता हूं और आपको भी सीखाता हूं।

जरा con नाम का फोलडर बना दे दीखा दो तो मान जाऊंगा की आप उस्ताद हैं।
नही बना सक्ते ना। हा...हा ट्राई करते रहीये पर बन नही पाएगा।

अब मै बताता हूं कैसे उस नाम के फोलडर बन जाऎंगे जीसे आप बनाते बनाते थक जाएंगे।
तो चलीये अब हम Start Menu मे Run पर क्लिक करते हैं अब cmd लीख कर ओके कर दें।
command promt खूल जाए तो टाईप करें cd.. और एन्टर दबा दें फीर cd.. टाईप कर के एन्टर दबाऎं।

अब कमांड प्रोम्ट मे एसा लीखा मीलेगा C:\>
आपको टाईप करना है C:\>md\\.\e:\con अब ईसके con क्या है? कोन फोल्डर का नाम है जो आप बना रहे हैं। और e ड्राईव का नाम है। आप e के जगह पर c,d,f दे सक्ते हैं। या जहां भी फोलडर बनाना है उस्का लोकेसन दे दें।

अब ईसे डीलीट करना चाह रहे हैं तो ये कमांड टाईप कर दें डीलीट हो जाएगा C:\>rd\\.\e:\con

आपके कंप्यूटर की IP और अप कहा बैठे है